काचित् प्रार्थना

(अखिल भा. औदीच्य महासभा के पुष्करराज (राजस्थान) षष्ठाधिवेशन के अवसर पर स्वागताध्यक्ष पं. सोमेश्वर आचार्य शास्त्री द्वारा संस्कृत में दिए गए उद्बोधन का एक अंश पाठकों के लिए प्रस्तुत है। इस अंश से और पुराने अंकों से दी गर्इ सामग्री से यह स्वयं सिद्ध है कि औदीच्य समाज में क्या विज्ञान क्या साहित्य, क्या शास्त्र और कलाहर क्षेत्र में कैसेकैसे विद्वान थे और सभी महासभा के गौरवपूर्ण अंग हुआ करते थे।)ये तावत् इदानि मपि सनातन स्वजाति धर्माचार रक्षा पक्षपातिनः सामाजिकाः विराजंति ते सर्वे जाति निर्विरोधरूपेण मिलित्वा स्वं स्वं स्वार्थं द्वेष हिसादिकं तथा जाति निदा वा संप्रदाय विरोधंच विसृज्य समप्राणाः संतः स्वाभीष्ठ सिद्धये कातर कंठेन करुणाकर नाराण मनुचित्य तत्सन्निधेः एव भारतवर्षस्थित स्वज्ञाति समूहस्य विहित शुद्ध कुल धर्माचरणस्य अन्यान्य देश निवाहात् परस्पर विस्मृत स्व संबंधस्य सपंक्तस्य।जाति समुन्नितकरणार्थ मेतदोषान्परित्मज्य रागोद्वेषश्च लोभश्च शोक महौभयंमदः मानोऽ सूयाच माँ याहिसाचमत्सरः..................संघेशक्तिः कलौयुगे अस्मिन्समयेऽसर्वेनिज जातिसम्मेलनं कुन्तिऽनो अस्मत्सम्मेलनं कथं न करणीयं तिशिष्टसम्मतेरपि तथाविधिः प्रयत्नः सर्वथाकरणीयः एतदर्थं महासभा तथा ब्राह्म्ण समाजाविधवेशनयोः स्वरूप मुपकारिता महिमा भूयसी देशे देशे ग्रामेग्रामे नगरे नगरे धाम्र्िमकैः पुरुषैः कीर्त्तनीयाः तदर्थं धर्मज्ञान सम्पन्ना वाग्विन्यास चतुराः प्रचारकाश्च संग्रहणीयाः।। प्रेषणीयाश्च यथाकालं महासभाधिवेशनं तावत् मथुरायाम् पुन र्गवालियरमध्ये पुनः काश्यां। पुनः सवार्इ माधवपुरे पुनर्मथुरायाम् अस्मिन्वर्षेतु।

Search