अष्टविनायक यात्रा

खरगोन। औदीच्य ब्राह्म्ण समाज के ५२ महिला-पुरुष सदस्य अष्ट विनायक महाराष्ट्र दर्शन यात्रा पर खरगोन से प्रस्थित हुए। इस यात्रा में गणपतिफुळे के गणपतिजी जो समुद्र किनारे हैं के साथ श्री घृष्णेश्वर दिव्य ज्योतिर्लिंग (ग्राम बिरूल) व श्री भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग के दर्शन लाभ भी लिये।
एलोरा की गुफाओें में प्राचीन शिल्प कला देखी। शिगणापुर में शनिदेव के दर्शन किये। अंत में औरंगाबाद में बीबी का मकबरा देखा जो ताज महल की प्रतिलिपि नजर आता है। मार्ग में अन्य कर्इ दर्शनीय और धार्मिक स्थलों का दर्शन लाभ किया। इस यात्री दल का नेतृत्व श्री जयंत ठक्कर व अनिल ठक्कर ने किया।
प्रस्तुतकर्ता - रमेश एम. ठक्कर, खरगोन

Search